[]
Home » Events » Poetry/Literature » और अधूरी ज़िंदगी ही जी पाते हैं
और अधूरी ज़िंदगी ही जी पाते हैं

और अधूरी ज़िंदगी ही जी पाते हैं

 

यह रही हम फूलों की तक़दीर*
किसी के प्यार के इज़हार के तौर पर
किताबों के वर्क़ॊ में घुटते रहने पर मजबूर !
या
किसी की आस्था की मूर्ति या मज़ार
या क़ब्र पर ख़ुद की ज़िंदगी भी क़ुर्बान !
या
किसी के गले की वरमाला या गजरे
के ज़रिये ख़ूबसूरती में चार चाँद से ख़ुश !
या
किसी की जीत,उल्लास,स्वागत में चंद
लम्हों के लिये भेंट चढ़ने पर मजबूर !
***
हम दूसरों को ख़ुशबू और खुशियाँ देने
वाले इसी तरह सड़क पर कुचले जाते
हैं और अधूरी ज़िंदगी ही जी पाते हैं ।

*************************

शेख बहादुर अली

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

15 − two =

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Scroll To Top
error

Enjoy our portal? Please spread the word :)