[t4b-ticker]
Home » News » National News » स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ़्तारी की मांग बढ़ी , छात्र पीड़िता ने कई राज़ खोले

स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ़्तारी की मांग बढ़ी , छात्र पीड़िता ने कई राज़ खोले

Spread the love

चिन्मयानंद की गिरफ़्तारी की चिंगारी भड़की , लखनऊ में हुआ धरना,  और अब इंसाफ की हत्या

बीजेपी के पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद पर दुराचार का आरोप लगाने वाली Law की छात्रा ने एसआईटी को 43 वीडियो और सौंपे हैं

लखनऊ 15 सितंबर 2019, राजधानी लखनऊ में बलात्कार आरोपी पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और बीजेपी नेता चिन्मयानंद को तत्काल गिरफ़्तार कर उनकी सम्पत्ति को जप्त करने की मांग को लेकर शहीद स्मारक पर सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया), रिहाई मंच, इंसानी बिरादरी, पिछड़ा महासभा, लोक राजनीति मंच और अन्य संगठनों ने धरना दिया।

शहीद स्मारक पर प्रदर्शनकारी बलात्कार आरोपी चिन्मयानंद को गिरफ़्तार करो, तबरेज अंसारी को न्याय दो, सेंगर- चिन्मयानंद जैसे बलात्कार आरोपियों की शरण स्थली भाजपा लिखी तख्तियां के साथ उपरोक्त संस्थाओं और पार्टियों ने अन्याय और भाजपाई आरोपियों के विरुद्ध अपना क्रोध और विरोध प्रदर्शन दर्ज कराया।

वक्ताओं ने कहा कि आम जनता को पुलिस बिना एफआईआर के गैर कानूनी हिरासत में हत्या कर रही है तो कहीं वाहन चेकिंग के नाम पर जनता को प्रताड़ित किया जा रहा है। सवाल उठाने वाले पत्रकारों पर मुकदमा दर्ज करने वाली योगी सरकार बताए की आज तक चिन्मयानंद को गिरफ़्तार क्यों नहीं किया।

धरने में मुख्य रूप से सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) के नेता पन्नालाल सुराना, श्याम गंभीर, तहसीन अहमद , मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित डा. संदीप पाण्डेय, रिहाई मंच अध्यक्ष मोहम्मद शुऐब, राजीव यादव, सृजन योगी अदियोग, रॉबिन वर्मा, वीरेंद्र कुमार गुप्ता, अभिभावक मंच से रवीन्द्र, अभ्युदय, प्रवीण श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

दूसरी ओर हिंदी हिंदुस्तान में छपी खबर के अनुसार स्वामी चिन्मयानंद की मुसीबतें हर दिन बढ़ती ही जा रही हैं। दुराचार का आरोप लगाने वाली एलएलएम छात्रा ने एसआईटी को 43 वीडियो और सौंपे हैं। छात्रा का कहना है कि हर वीडियो में चिन्मयानंद के खिलाफ कुछ न कुछ नया है। यह वीडियो किसी हिडेन कैमरे से बनाए गए हैं। छात्रा का दावा है कि स्वामी लॉ की एक अन्य छात्रा का भी शारीरिक शोषण कर रहा था ।

Article

https://timesofpedia.com/धार्मिक-राष्ट्रवादः-नायक/

law की इस छात्र पीड़िता ने स्वामी को ‘ब्लैकमेलर’ कहा है। उसके वीडियो भी एसआईटी को सौंपे गए हैं। एसआईटी ने स्वामी चिन्मयानंद के दो कीमती मोबाइल शनिवार को कब्जे में लिये हैं। इनमें छात्रा की वीडियो क्लिप हो सकती हैं।

सूत्रों के मुताबिक, पीड़िता ने कहा है कि “चिन्मयानंद ने ही नहाते समय का मेरा (पीड़िता) वीडियो अपने विश्वासपात्र से तैयार करवाया था। वीडियो हाथ लगते ही चिन्मयानंद ने मुझे ब्लैकमेल कर हवस का शिकार बनाना शुरू कर दिया।” सूत्रों ने बताया कि फिलहाल एसआईटी ने पीड़ित पक्ष की तरफ से मुहैया कराए गए वीडियो और बाकी अन्य तमाम सीलबंद चीजों को फॉरेंसिक टीम के हवाले कर दिया है, ताकि 23 सितंबर को जब SIT (Special Investigative Team ) इस मामले की जांच की प्रगति रिपोर्ट के साथ हाईकोर्ट की निगरानी पीठ के सामने पेश हो, तब वहां वह सब कुछ साफ-साफ बता सके।

इस बीच, पीड़िता और उसके परिवार ने शनिवार को स्थानीय मीडिया से कहा है कि स्वामी के खिलाफ जो सबूत पीड़ित पक्ष ने इकट्ठे किए थे, उनमें से काफी हद तक हटा-मिटा दिए गए हैं। यह खबर पीड़िता और उसके परिवार को कहां से मिली? इस सवाल का जवाब पीड़ित पक्ष नहीं दे रहा है । उन्होंने बस इतना कहा, “SIT क्या कर रही है, हमें सब मालूम चल रहा है!”

छात्रा बोली, राजस्थान में छीन ली थी पेन ड्राइव
छात्रा को राजस्थान में पुलिस ने बरामद किया तो उसके सामान की तलाशी ली गई। उस ड्राइव को पुलिस ने छीन लिया था। छात्रा ने बताया कि उस पेन ड्राइव में भी 43 वीडियो थे, उसने वीडियो की कॉपी कर एक अन्य पेन ड्राइव घर में भी छिपा दी थी। उसे किसी पर भरोसा नहीं था, इसीलिए उस ड्राइव को पहले एसआईटी को नहीं दिया। अब जब एसआईटी पर भरोसा बढ़ा तब छिपाई पेन ड्राइव की वीडियो कॉपी कर एसआईटी को सौंप दी गई।

एसआईटी ने शनिवार को स्वामी चिन्मयानंद के दो महंगे मोबाइल, उनके शयनकक्ष में रखे दंतमंजन, तौलिया शनिवार को कब्जे में ले लिये। एलएलएम छात्रा ने आरोप लगाया था कि स्वामी ने बाथरूम में ताक झांक कर एक वीडियो बनाया था। एसआईटी अब स्वामी के मोबाइल फोन खंगालेगी।उसके बाद क्या निकलेगा नतीजा राम ही जाने ।Top Bureau

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Scroll To Top
error

Enjoy our portal? Please spread the word :)