[t4b-ticker]
Home » News » बुर्का पहना था इसलिए नहीं मिला गोल्ड मैडल

बुर्का पहना था इसलिए नहीं मिला गोल्ड मैडल

Spread the love

 

वाक़्या है रविवार के दिन रांची के मारवाड़ी कॉलेज का है , जहाँ दीक्षांस समारोह का आयोजन रखा गया था और टॉपर्स को डिग्री प्रदान करने का काम राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू और रांची विवि के कुलपति डॉ रमेश कुमार पांडेय द्वारा किया जाना था ।

दरअसल रांची के मारवाड़ी कॉलेज की ग्रेजुएशन सेरेमनी में डिग्री लेने आई ओवर ऑल बेस्ट ग्रेजुएट निशात फ़ातिमा को समारोह में डिग्री लेने के लिए पपकुंड से रांची आना था जो लगभग 360 KM की दूरी का फासला है , लेकिन वो अपनी टोपर की डिग्री और गोल्ड मैडल लेने समुन्द्र पार भी जाने का होंसला रखती थी उसको अपनी मेहनत और परिश्रम का फल जो मिलने जा रहा था ।

plss click down and see more relevent articles

https://timesofpedia.com/rajiv-ek-kamal-hai/

निशात ने जहाँ Bsc MATHS में 93 % अंक हासिल किये थे वहीँ वो ओवर आल विषयों में उसने कॉलेज टॉप किया था , ऐसे में निशात के ज़ेहन में दूर दूर तक यह बात नहीं थी कि उसको कॉलेज टॉपर होने बावजूद डिग्री लेने से रोक दिया जाएगा , उसको सम्मान के लबादे की जगह अपमान की चादर उढ़ाई जाएगी ।

उस वक़्त निशात पर मायूसी और अफ़सोस का पहाड़ टूट पड़ा जब उसको यह कहकर डिग्री और गोल्ड मैडल लेने से रोक दिया गया कि आपने बुर्का पहना हुआ है इसलिए आपको हम सम्मानित नहीं कर सकते । पवित्र और पूजनीय सीता और पार्वती की आस्थाओं के इस देश में एक विचार धारा बा हया और सभ्य घराने की प्रतिभाशाली बच्चियों को अपमानित करने वाले कहीं न कहीं भारत की संस्कृति को अपमानित करने और संविधानिक अधिकारों के हनन में विलीन है ।

जिस समाज में MAKE IN INDIA और SKILL INDIA की बात सरकारी स्तर पर चलाये जाने का दावा हो उसी समाज में SKILLS को कुचलने का काम भी साथ चल रहा हो इससे आप किस प्रकार का प्रभाव लेते हैं या आप क्या मानते हैं , आपकी क्या राय है इस सम्बन्ध में किर्प्या हमें अपने COMMENTS भेजकर बताएं ।

खैर अब अपमानित करने वाले या सम्मानित करने वालों की परिभाषाएँ मुख्तलिफ होगई हैं , जिस तरह राष्ट्र विरोधी और राष्ट्र प्रेमियों की परिभाषा भी बदली हुई है ।इसी के साथ अब सभ्यता और धार्मिक संस्कृति को भी अपमानित किये जाने का दौर पूरी दुनिया में चल रहा है । कैसी विडंबना है जिस भारत में साडी का पल्लू गिर जाने के बाद उस स्त्री को असभ्य और नीच समझा जाता था आज अर्ध नग्न वस्त्रों वाली महिला महफ़िल की सम्मानित शख्सियतों में शामिल हो गयी है ।

दुनिया में इंसान को नंगा (निर्वस्त्र ) करने वालों की चाल लगभग सफल होगई है , जो समुदाय दुनिया से फैशन के नाम पर MISS INDIA और MISS UNIVERSE के नाम पर हमारे देश में घुसे थे उन्होंने हमारी सभ्यता और संस्कृति को तबाह कर दिया है और अब हमारे समाज में बच्चियों को अपनी आँखों के सामने नंगा करके बाहर भेजने को मॉडर्न समझते हैं केसा समाज बना रहे हैं हम ???TOP NEWS की टीम को आपके कमैंट्स का इंतज़ार रहता है ।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Scroll To Top
error

Enjoy our portal? Please spread the word :)