Home » News » National News » एक मुस्लिम युवक ने 500 साल पुराने हनुमान मंदिर की मरम्मत का बीड़ा उठाया

एक मुस्लिम युवक ने 500 साल पुराने हनुमान मंदिर की मरम्मत का बीड़ा उठाया

अहमदाबाद । जहाँ एक तरफ़ सियासी दल और कुछ कट्टर पंथी संस्थाएं देश को धर्म और जाति में बाँटकर अपना उल्लू सीधा करने में लगी है वही कुछ ऐसे भी लोग समाज में मौजूद है जो इन दलो को सद्भाव और स्नेह का आइना दिखाने का काम कर रहे है।

अहमदाबाद (गुजरात ) के रहने वाले ऐसे ही एक शख़्स मोईन मेमन आज समाज में एक नमूना बनकर उभरे हैं , जो अपने मज़हब पर पाबन्द रहते हुए यहाँ एक पुराने हनुमान मंदिर की मरम्मत में अपना माल और वक़्त लगा रहे हैं ।मेमों का यह अमल देखकर सांप्रदायिक सोच को मानो सांप सूंघ गया हो , नफ़रत की राजनीति करने वालों का सर शर्म से झूक गया है ।

उनके इस काम की हर वर्ग में सराहना हो रही है। सोशल मीडिया पर उनके काम की ख़ूब सराहना की जा रही है। मेमन हिंदू मुस्लिम को लड़ने और नफरत की सियासत से ख़फ़ा दिखे। न्यूज़ एजेन्सी से बात करते हुए उन्होंने कहा कि जब तक राजनीतिक दल हिंदू मुस्लिम नही करवाते तब तक उनको ऐसा लगता है शायद सियासत में कोई उनको नहीं पूछेगा।उन्होंने देश के विकास को सांप्रदायिक सोहाद्र के साथ जोड़ने की समाज से अपील की और कहा कि अगर हिंदू मुस्लिम एक हो जाए तो ये राजनीतिक दल अपना सा मुंह लेकर रेहजायेंगे और उनको भी सद्भाव और प्यार की ही सियासत पर आना होगा ।

मेमन ने कहा हम एकजुट हो तो देश में शांति और अमन क़ायम होगा , अमन होगा तो विकास आएगा और विदेशी निवेश भी बढ़ेगा । मेमन का यह प्रशंसीय कार्य सोशल मीडिया पर ख़ूब सुर्ख़ियाँ बटोर रहा है। लोग मेमन के काम की तारीफ़ कर रहे है। एक शख़्स लिखता है ये राजनीति वाले नफरत के सौदागर है, नफरत बेच कर अपने लिए सत्ता शोहरत पैसा बटोरते है…

ग़ौरतलब है की देश में हर साल कही न कही चुनाव होते रहते है। चुनाव प्रचार के शुरूआत में सब दल विकास की बात करते है लेकिन मतदान की तारीख़ नज़दीक आते आते विकास नफरत और हिन्दू – मुस्लिम दंगों की आंधी में उड़ जाता है और हिंदू – मुस्लिम मुद्दे मीडिया की सुर्ख़ियो में आ जाते है। और बस इसी पर चर्चाएं शुरू होजाती हैं .

आज हर तरफ नफ़रत के बीज बोए जा रहे है जिससे निर्दोषो को अपनी जान से हाथ धोना पड रहा है,और ओछी सियासत के चलते हज़ारों बेगुनाह कुछ लोगों के गुनाहों को छुपाने के लिए अलग अलग एजेंसियों द्वारा जेलों में ठूंस दिए जारहे हैं । आज ज़रुरत है मोईन मेमन जैसे लोगों की और कासगंज के अमांपुर गाउन के कुछ हिन्दू भाइयों की जो जो नफरत की आंधी के रुख को बदलने के लिए आगे आये हैं हम ऐसे सभी लोगों को सलूट करते ह ें जो देश और दुनिया में अम्न व् शान्ति के लिए कार्यरत हैं . टाइम्स ऑफ़ पीडिया की ख़ास रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Scroll To Top